Friday, 4 September 2009

हसरतों को अपनी , दफ़न कर दिया है,

बुझे हुए मन को भी बेमन कर दिया है,

मत कुरेदो मेरे अरमानो की राख को,

उस को भी विदाये जहन कर दिया है

No comments:

Post a Comment